Advertisements

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022, किसान रजिस्ट्रेशन लिस्ट चेक करें यहां से:

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022, नमस्कार मित्रों आप सभी लोगों का स्वागत है हमारे इस आर्टिकल में आज हम अपने इस पेज के माध्यम से आप सभी लोगों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित जानकारी देने वाले हैं, हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री जी ने किसानों की समस्याओं को देखते हुए एक स्कीम को जारी किया था जिसका नाम फसल बीमा योजना है जैसे कि आप लोगों को पता ही होगा कि इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा फसलों का बीमा कराया जाता है अगर किसी किसान का फसल किसी आपदा के कारण नष्ट हो जाता है तो इसका मुआवजा सरकार की ओर से दिया जाता है उस किसान को, बहुत से किसानों को इसके बारे में जानकारी नहीं होते हैं इसलिए हम आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा से संबंधित सभी जानकारी विस्तार पूर्वक दे रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022 (PMFBY) भारत सरकार की एक महत्वाकांक्षी कृषि फसल बीमा योजना है इस योजना के अंतर्गत सरकार जरूरत के समय किसानों को उनकी फसल के लिए बीमा कवर और वित्तीय सहायता प्रदान करती हैं। जो भी किसान भाई PM Fasal Bima Yojana के लिए ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं वह सभी Pmfby.Gov.In पोर्टल के माध्यम से Online Application Form भर सकते हैं और जिन किसान भाइयों ने PMFBY 2022 के तहत ऑनलाइन आवेदन किया था अब वे अपने PMFBY ऑनलाइन आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं.

Advertisements

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ फसलों की आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। किसान अपनी फसलों का पंजीकरण 31 July 2022 तक करवा सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत खरीफ फसलों में धान, कपास, मक्का, बाजरा तथा मूंग का Registration किया जाएगा। इस बात की जानकारी कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपनिदेशक डॉ विनोद कुमार जी के द्वारा प्रदान की गई है। इस योजना के अंतर्गत धन के लिए प्रीमियम की राशि 741 रुपए, कपास का premium 1798 रुपए, मक्का के प्रीमियम की राशि 370.51 रुपए, बाजरे के premium की राशि 348.70 रुपए तथा मूंग के प्रीमियम की राशि ₹326 रुपए प्रति acre निर्धारित किया गया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत देश के सभी किसानों को किसी प्राकृतिक आपदा के कारण फसल बर्बाद होने पर मुआवजा सरकार की ओर से प्रदान किया जाता है इस योजना का कार्यान्वयन भारतीय कृषि बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत केवल प्राकृतिक आपदा जैसे समस्या से फसल बर्बाद होने के कारण ही किसानों को इसका मुआवजा दिया जाता है अगर किसी किसान का फसल किसी और कारण से नुकसान हो जाता है जो कि प्राकृतिक आपदा के कारण नहीं होता है तो ऐसे किसानों को मुआवजा नहीं दिया जाता है इस योजना के तहत.

फसल योजना के लिए किया जाएगा इस तिथि तक पंजीकरण!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अगर आप भी अपना फसल का रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते हैं तो आप सभी किसानों को यह तिथि से पहले ही अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ फसलों की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। किसान अपनी फसलों का पंजीकरण 31 जुलाई 2022 तक करवा सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत खरीफ फसलों में धान, कपास, मक्का, बाजरा और मूंग का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। इस बात की जानकारी कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपनिदेशक डॉ विनोद कुमार जी के माध्यम से प्रदान की गई है। इस योजना के अंतर्गत धन के लिए प्रीमियम की राशि 741 रुपए, कपास का प्रीमियम 1798 रुपए, मक्का के प्रीमियम की राशि 370.51 रुपए, बाजरे के प्रीमियम की राशि 348.70 रुपए तथा मूंग की राशि 36 रुपए प्रति acre निर्धारित किया गया है।

रबी की फसलों के लिए गेहूं का प्रीमियम 425 रुपए, जौ का प्रीमियम 277.88 रुपए, सरसों का प्रीमियम 286.6 रुपए, चने का प्रीमियम 212.50 और सूरजमुखी का प्रीमियम 277.88 प्रति एकड़ निर्धारित किया गया है। रबी फसलों का पंजीकरण 31 दिसंबर 2022 तक किया जाएगा। अगर कोई किसान अपना प्रीमियम नहीं करवाता है तो इस स्थिति में किसान को अंतिम 1 हफ्ते पहले संबंधित बैंक में लिखित में देय करना होगा। अगर किसान बीमित फसल बदलना चाहता है। तो इस स्थिति में अंतिम तिथि से 2 दिन पहले अपने बैंक को इनफॉर्म करना होगा।

इस योजना का उद्देश्य?

Advertisements

जैसा की आप सभी लोगों को यह पता ही होगा कि हमारा भारत देश एक कृषि प्रधान देश है यहां अधिकांश देश के लोग कृषि पर ही आधारित है, जिनका घर परिवार खेती से ही चलता है जो किसान हमारे लिए फसलों का उत्पादन करते हैं उन्हें ही कुछ फायदा प्राप्त नहीं होता है पीएम फसल बीमा योजना का यही मुख्य उद्देश्य है कि कभी आपदा की वजह से अगर किसी किसान का फसल नष्ट हो जाता है तो अगर ऐसे किसान फसल बीमा योजना के अंतर्गत अपना पंजीकरण करवाएं होते हैं तो उनका फसल का मुआवजा उन्हें प्रदान किया जाता है.

जैसे कि हमने आपको ऊपर बताया है कि भारत के अधिकतर लोग खेती पर ही आधारित है अगर ऐसे में किसानों को मुनाफा नहीं होता है तो उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है कई बार तो ऐसा देखा जाता है कि किसी प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों के फसल बर्बाद हो जाते हैं क्योंकि किसान किसी से कर्ज लेकर अपना फसल बुवाई करते हैं, अगर ऐसे में उनका फसल बर्बाद हो जाता है तो वह काफी टूट जाते हैं और उनकी आर्थिक स्थिति काफी खराब हो जाती है.

इन सभी समस्याओं को देखते हुए भारत के प्रधानमंत्री पीएम मोदी जी ने एक योजना को जारी किया है, जिसका नाम प्रधानमंत्री फसल बीमा है इस योजना के तहत उन सभी किसान को उसका लाभ प्राप्त कराया जाएगा जिन किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है इस योजना में किसानों की फसलों में होने वाले नुकसान व चिंताओं से मुक्त कराना है और लगातार खेती करने के लिए किसानों को बढ़ावा देना है और भारत को विकसित तथा प्रगतिशील बनाना है.

फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों की कवरेज!

अधिसूचित क्षेत्रों में अधिसूचित फसल उगाने वाले किसानों पाटीदार जोतेदार किसान सहित सभी किसान कवरेज के लिए पात्र है तथा गैर ऋण किसानों को राज्य में प्रचलित के भूमि रिकॉर्ड अधिकार r-o-r भूमि कब्जा प्रमाण पत्र एलपीसी आदि आवश्यक दस्तावेजों की प्रस्तुत करना आवश्यक है इसके अलावा राज्य सरकार द्वारा अनुमति अनुसूचित लागू अनुबंध समझौता के विवरण आदि अन्य संबंधित दस्तावेजों की भी आवश्यक है.

Advertisements

अनिवार्य घटक वित्तीय संस्थाओं से अनुसूचित फसलों के लिए मौसमी कृषि कार्य के लिए ऋण लेने वाले सभी किसान अनिवार्यता पात्र होंगे.
शैक्षिक घटक और गैर ऋण किसानों के लिए योजना वैकल्पिक होगी
योजना के तहत अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति महिला किसानों की अधिकतम कवरेज सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रयास किया जाएगा
इसके तहत बजट आवंटन और उपयोग संबंधित राज्य के अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति सामान्य वर्ग और भूमि व भूमि धारण के अनुपात में होगा
पंचायती राज संस्थाओं पी आर आई को कार्यान्वयन एवं फसल बीमा योजना पर किसानों की प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए शामिल किया जाएगा.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत जोखिम की कवरेज!

फसल के निम्नलिखित चरण और फसल के नुकसान के लिए जिम्मेदार जोखिम योजना के अंतर्गत कवरेज किए जाते हैं यह सभी किस प्रकार की होगी आप हमारे इस पोस्ट के माध्यम से देख सकते हैं और इसे पढ़कर इसकी जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं जिसके लिए आपको बस हमारे इस पेज के अंत तक जुड़े रहना होगा और आप भी फसल बीमा योजना के लाभ ले सकते हैं.

बुवाई/रोपण में रोक संबंधित जोखिम: बीमित क्षेत्र में कम बारिश या प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों के कारण बुवाई/ रोपण में उत्पन्न रोक।
खड़ी फसल (बुवाई से कटाई तक के लिए): नही रोके जा सकने वाले जोखिमों जैसे सूखा, अकाल, बाढ़, सैलाब, कीट एवं रोग, भूस्खलन, प्राकृतिक आग और बिजली, तूफान, ओले, चक्रवात, आंधी, टेम्पेस्ट, तूफान और बवंडर आदि के कारण उपज के नुकसान को कवर करने के लिए व्यापक जोखिम बीमा प्रदान की जाती है।
कटाई के उपरांत नुकसान: फसल कटाई के बाद चक्रवात और चक्रवाती बारिश और बेमौसम बारिश के विशिष्ट खतरों से उत्पन्न हालत के लिए कटाई से अधिकतम दो सप्ताह की अवधि के लिए कवरेज उपलब्ध है।
स्थानीयकृत आपदायें: अधिसूचित क्षेत्र में मूसलधार बारिश, भूस्खलन और बाढ़ जैसे स्थानीय जोखिम की घटना से प्रभावित पृथक खेतों को उत्पन्न हानि/क्षति.

बीमा का क्लेम करते हुए इन बातों का रखना होगा ध्यान?

यदि आपने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत आवेदन किया है और आप भी बीमा का क्लेम करना चाहते हैं तो ऐसे में आप सभी लोगों को बीमा कंपनी को छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं की जानकारी प्रदान करनी चाहिए, यह जानकारी आपको समय से प्रदान करनी होगी यदि आपने आपदा की जानकारी बीमा कंपनी को देने में देर कर दी है तो आपको क्लेम का भुगतान नहीं किया जा सकता है ऐसे में आप लोग इन बातों का खासतौर पर ध्यान रखें.

छोटे पैमाने पर प्राकृतिक आपदाओं में ओला विशिष्ट भूमि संकलन, अतिवृष्टि, बादल फटने, पाकिस्तानी आग लगने तथा बेमौसम वर्षा या सामान्य से अधिक वर्षा होने आदि के जैसी समस्या शामिल होती है तो आप लोग जल्द से जल्द अपना क्लेम कर ले.

हम आपको बता दें कि हाल ही में नाम क्या 930,000 किसानों के बीमा क्लेम रद्द कर दिए गए हैं क्योंकि उन्होंने समय पर कंपनी बीमा को प्राकृतिक आपदा की जानकारी नहीं दी थी, यदि किसी बड़े पैमाने पर प्राकृतिक आपदा आती है तो इस स्थिति में आपको बीमा कंपनी को प्राकृतिक आपदा की जानकारी देने की जरूरत नहीं है यदि आप क्लेम प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप बीमा कंपनी को सही समय पर सूचित करते हैं या नहीं, अगर ऐसा नहीं करते हैं तो प्रीमियम का भुगतान करने के बाद भी आपको क्लेम प्राप्त नहीं हो सकता है.

पीएम फसल बीमा योजना के लिए आवंटित बजट!

किसानों को बड़े नुकसान से बचाने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का शुभारंभ किया है इसके चलते फसलों की बर्बादी पर किसानों को बीमा कवरेज विवरण किया जाएगा। इसके तहत साल 2022 के लिए सरकार ने 16000 करोड़ रुपए का बजट देने का ऐलान किया है। इसमें किसान के खेत में बुवाई से लेकर कटाई तक के समय का बीमा कवर किया जाएगा। यदि कुछ भी प्राकृतिक हानि होती है तो बीमा कंपनी के द्वारा इसकी भरपाई की जाएगी। जिससे किसानों को किसी भी मुसीबत का सामना ना करना पड़ेगा और वह परिवार की देख एक अच्छे से कर पाएंगे। योजना में 84 प्रतिशत तो सिर्फ छोटे किसान आवेदन कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना नई घोषणा 2022!

अभी हाल ही में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2022 के अंतर्गत असम में राज्य स्तर पर 2 दिन का अभिविन्यास अभ्यास कार्यक्रम का आयोजन किया गया था इस कार्यक्रम में चर्चा का विषय यह था कि असम के कृषि को को मौसम में बदलाव के कारण जिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है जैसे किकि सूखा, बाढ़ और कीड़ों से होने वाली अन्य अनेक समस्याएं इन सभी परेशानियों की वजह से किसानों की फसलों को हानि पहुंची है इस परेशानी को देखते हुए कृषि मंत्री के माध्यम एक महत्वपूर्ण घोषणा की गई है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 31 जुलाई 2021 तक 5 लाख किसानों को पंजीकृत करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसका पूर्ण कार्यभार राज्य के समस्त कृषि अधिकारियों को सौंपी गई है।

PMFBY के अंतर्गत 52 लाख किसानों को मिली बीमा क्लेम राशि!

यह योजना के तहत हर वर्ष 5.5 करोड़ किसान अपना रजिस्ट्रेशन करवाते हैं वर्ष 2018-19 में 52,41,268 लाख रुपए किसानों को उनकी प्राकृतिक रूप से फसल बर्बाद होने पर दी गई है यह क्लेम राशि किसानों को डायरेक्ट डीबीटी के द्वारा से लाभार्थियों के बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी गई है आप भी इस योजना का फायदा प्राप्त कर सकते हैं और अगर आप की फसल बर्बाद होती है तो आप भी इसका क्लेम कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत 4900000 किसानों को दिया जाएगा भुगतान!

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत 4900000 किसानों को 1718 करोड़ रुपए की राशि का भुगतान किया जा रहा है राज्य के बैतूल जिले में सबसे ज्यादा किसानों को इस योजना का लाभ प्राप्त कराया जाएगा मुख्यमंत्री जी द्वारा बेतूल जिले से ही कार्यक्रम को आयोजन किया गया था, सिंगल क्लिक के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा यह राशि किसानों के खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी यह राशि खरीफ एवं रबी में हुए फसल के नुकसान की भरपाई करने के लिए जारी की गई है मुख्यमंत्री जी के द्वारा यह भी जानकारी दी गई है कि इस योजना के अंतर्गत पहले 2878 करो रुपए का भुगतान किया जा चुका है.

अब तक लगभग 10494 करोड रुपए राज्य सरकार द्वारा किसानों के खाते में ट्रांसफर कर दी गई है पिछले 22 महीनों में सरकार द्वारा 1.76 लख करोड़ रुपए की राशि किसानों के खाते में वितरित की गई है सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र का विकास करने के लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है जिसके लिए सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाओं का कार्यान्वयन करती रहती है.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत पोस्ट ऑफिस के माध्यम से आवेदन!

दोस्तों आप सभी के लिए एक बड़ी खबर निकल कर आ रही है कि अगर आप पोस्ट ऑफिस में अपना खाता खुला है तो आपको इस योजना का लाभ एकदम सरल रूप से सरकारी कार्य के तौर पर प्राप्त कराया जाएगा अगर आपने भी खुलवाया है खाता पोस्ट ऑफिस में तो आप उस माध्यम से भी अपना आवेदन कर सकते हैं जिसकी जानकारी हम आपको अपने इस पोस्ट के माध्यम से देने जा रहे हैं.

हाल ही में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में एक अपडेट किया गया है जिसके जरिए अब किसानों को यह योजना पोस्ट ऑफिस के माध्यम से भी प्राप्त हो सकता है इसका मतलब यह है कि इस स्कीम के फायदे किसान भाई अब पोस्ट ऑफिस के माध्यम से भी प्राप्त कर सकते हैं, सरकार का इस कदम के पीछे का उद्देश्य है कि ग्रामीण क्षेत्रों के डाक विभाग की पहुंच अच्छी होती है और किसानों को फिर काफी आसानी होगा इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए.

इस योजना के फायदे को किसानों तक पहुंचाने के लिए एक अभियान शुरू किया जाएगा पोस्ट ऑफिस डिपार्टमेंट के द्वारा सी डिस्ट्रिक्ट में वाराणसी के. अभी तक इस अभियान के अंदर 1699 पोस्ट ऑफिस डिपार्टमेंट वाराणसी के और काफी और जिलों के भी शामिल है.सरकार के द्वारा अभी तक 800 किसानों ने इस योजना में पोस्ट ऑफिस के जरिए आवेदन किया है.

अगर आप यूपी के इस प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में पोस्ट ऑफिस द्वारा आवेदन करना चाहते हैं तो आपको आधार कार्ड की फोटो कॉपी, पैन कार्ड, वोटर आईडी, बैंक पासबुक कोई भी एक से आप आवेदन कर सकते हैं. खरीफ और रबी फसलों के लिए 2% और 1.5% प्रीमियम देना होगा। इस योजना में खरीफ फसलों के लिए पंजीकरण 31 जुलाई तक है.

31 दिसंबर तक किया जाएगा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का आवेदन!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रबी सीजन के लिए कार्य आरंभ कर दिया जाएगा सूत्रों के मुताबिक तो यह भी खबर निकल कर आ रही है कि इसे जारी भी कर दिया गया है लाभार्थी द्वारा किसान बैंक में अपनी फसल के अनुसार प्रीमियम जमा करके इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं, लाभार्थी इस योजना के अंतर्गत 31 दिसंबर तक आवेदन कर सकते हैं इस बात की जानकारी उपमंडल कृषि अधिकारी डॉ कृष्ण कुमार द्वारा प्रदान की गई है रवि सीजन के लिए किसानों द्वारा मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल का पंजीकरण किया जा रहा है इस पोर्टल पर अपनी फसल का सटीक विवरण भी कर सकते हैं या भर सकते हैं.

इसके अलावा फसलों की स्थिति बताना भी जरूरी है। ऐसी कई स्थितियाँ हैं जहाँ गेहूँ के खेत में गेहूँ के साथ सरसों लगाई जाती है। इस वर्तमान परिस्थिति में असुविधा हो सकती है। नतीजतन, केसीसी किसानों के लिए यह अनिवार्य है कि वे तेरह दिसंबर को बैंक जाकर अपनी फसल के बारे में स्थिति स्पष्ट करें ताकि उन्हें भविष्य में किसी मुश्किल स्थिति का सामना न करना पड़े। जो किसान इस योजना का फायदा नहीं उठाना चाहते हैं, उन्हें बैंक जाना चाहिए और प्रीमियम नहीं काटने के लिए लिखित आग्रह करना चाहिए। जिसके लिए 15 दिसंबर से पहले बैंक जाना होगा। बैंक द्वारा केसीसी धारक पशुपालकों का प्रीमियम काटने का कार्य पंद्रह दिसंबर के बाद शुरू किया जाता है। इसके बाद कोई प्रगति नहीं की जाएगी

योजना से निकासी करने के लिए लिखित में दे बैंक को सूचना!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना देश के हर किसान के लिए बनाई गई है। इस योजना का लाभ लेने के लिए वह 24 जुलाई तक अपने बैंक में दर्ज इस डाटा को हार्ड कॉपी के रूप में दे दें। इसके बाद उस रैंचर को इस योजना से बाहर कर दिया जाएगा। यदि किसान द्वारा कोई सूचना बैंकों को नहीं दी जाती है तो बैंक द्वारा इस योजना के तहत पशुपालक का पंजीयन किया जायेगा। और कितना बीमा भुगतान काटा जाएगा। इस योजना का लाभ पाने के लिए बड़ी संख्या में रैंचर्स क्लाइंट केयर फोकस या बीमा एजेंसी के प्रतिनिधि के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।

यदि किसी किसान द्वारा पूर्व में निर्धारित उपज में कोई परिवर्तन किया जाता है तो उसे उपयोग की अंतिम तिथि से 2 दिन पूर्व बैंक को यह सूचना देनी होगी। यानी किसान 29 जुलाई तक यह जानकारी बैंक में दे दें। इस योजना से जुड़ी और जानकारी प्राप्त करने के लिए आप पशुपालक सरकारी सहायता कार्यालय द्वारा दिए गए पूरक नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। पूरक संख्या 1800 180 2117 है। इसके अलावा इस योजना से जुड़ी जानकारी बैंक कार्यालय या बीमा एजेंसी में पहुंचकर भी प्राप्त की जा सकती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को मिली दावे की राशि!

प्रधानमंत्री किसान फसल बीमा योजना के अंतर्गत दावे के अनुसार अब तक कितने किसानों को यह राशि प्राप्त कराई जा चुकी है जिसकी जानकारी हम आपको अपने इस पोस्ट के माध्यम से देने जा रहे हैं, सरकार के द्वारा यह खबर निकल कर आती है कि अभी तक इस योजना के अंतर्गत 5200000 से भी अधिक किसानों को इसका लाभ प्राप्त कराया जा चुका है.

इस योजना के अंतर्गत सन 2018 से 19 में 5241268 किसानों को फसल के क्लेम की राशि का भुगतान किया जा चुका है इस वर्ष लगभग 5.5 करोड किसान आवेदन करते हैं अब तक सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत 90 हजार करोड़ रुपए तक के दावों का भुगतान किसानों के बैंक खाते में किया जा चुका है.

यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आवेदन करना होगा आवेदन ऑनलाइन थे ऑफलाइन दोनों माध्यमों से किया जा सकता है सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत किसानों को आवेदन करना आरंभ होने की जानकारी देने के लिए रवि तथा खरीफ सीजन में विज्ञापन भी जारी किया जा सकता है,

सरकार द्वारा इस योजना का प्रचार भी किया जाता है जिससे कि ज्यादा से ज्यादा किसान इस योजना का लाभ प्राप्त कर सके और सभी किसानों तक इसकी जानकारी पहुंचाई जा सके सभी पात्र किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से किसानों को फसल खराब होने के कारण आर्थिक नुकसान से बचाया जा सकता है इस स्कीम के तहत.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अब तक किए गए हैं इतने रुपए का भुगतान.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत सभी किसानों को फसल पर प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए और आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने इस योजना को जारी किया है,यह योजना 13 जनवरी 2016 को रवाना की गई थी। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को बाढ़, तूफान, भारी बारिश आदि के कारण फसल को हुए नुकसान पर आर्थिक मदद दी जाती है। यह योजना एग्रीबिजनेस इंश्योरेंस एजेंसी ऑफ इंडिया द्वारा संचालित है। फसल बीमा योजना के तहत एक साल में करीब 5.5 करोड़ किसान आते हैं और इस योजना में अब तक 90000 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। इन मामलों का निपटारा आधार खेती के जरिए किया जाता है। कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत 7000000 पशुपालकों को 8741.30 करोड़ रुपये दिए गए।

इस योजना के तहत भारत के राज्य और सार्वजनिक प्राधिकरण द्वारा कितना अतिरिक्त प्रीमियम दिया जाता है और उत्तर पूर्वी राज्यों में, शीर्ष पायदान राशि का 90% भारत के सार्वजनिक प्राधिकरण द्वारा दिया जाता है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत सामान्य कुल संरक्षित राशि को बढ़ाकर 40700 रुपए कर दिया गया है।

यह राशि पहले 15,100 रुपए प्रति हेक्टेयर थी।
इस योजना के तहत बुआई से पहले से लेकर कटाई के बाद तक की पूरी समय सीमा कवर की जाती है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत पौधरोपण और उपज में बार-बार हादसों से होने वाले नुकसान को भी शामिल किया गया है। इस योजना के तहत समय-समय पर अपग्रेड किए गए हैं। ताकि इसे अनुकूल बनाया जा सके।

पीएम फसल बीमा योजना रबी फसल बीमा प्रक्रिया हुआ शुरू!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत रवि फसल बीमा प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है इस योजना का लाभ उठाने के लिए लाभार्थी किसानों के बैंक अकाउंट में पैसे प्रीमियम की राशि काटी जाएगी, सभी बैंकों को सरकार द्वारा प्रीमियम की राशि काटने के निर्देश दे दिए गए हैं 31 दिसंबर से पहले प्रीमियम की राशि किसानों के अकाउंट से काट ली जाएगी और फिर इसकी जानकारी 15 जनवरी तक एक पोर्टल पर दर्ज कर दी जाएगी एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की पूरी प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान की है

सभी ऋणी किसानों का प्रीमियम बैंक द्वारा स्वत ही काट लिया जाएगा। अब इस योजना के अंतर्गत ऋणी किसानों को सहमति पत्र देने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी और वह सभी ऋणी किसान जो इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त नहीं करना चाहते उन्हें बैंक में असहमति पत्र जमा करना होगा।
इसी के साथ सभी अऋणी किसानों को फसल बीमा योजना का लाभ उठाने के लिए सहमति पत्र देना अनिवार्य होगा तभी उनकी फसल का बीमा हो पाएगा। इस योजना का लाभ उठाने के लिए सभी किसानों को किसी भी राज्य स्तरीय सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, वाणिज्यिक बैंक, वित्तीय संस्था से संपर्क करना होगा।

जैसा कि दोस्तों हमने आपको यहां बताया है कि पीएम फसल बीमा योजना रबी फसल बीमा योजना की प्रक्रिया को जारी कर दिया गया है अगर हमारा यह पेज अभी तक आपको पसंद आया हो तो हमारे इस पेज को उन सभी मित्रों के साथ शेयर अवश्य करें जिन्हें इस योजना के बारे में अभी जानकारी रही है ताकि वह भी इस योजना का लाभ प्राप्त कर सके और अपने कृषि के क्षेत्र में आगे बढ़ सके.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित कुछ ऐसी जानकारी है जी ने सभी किसानों को जाना चाहिए ताकि वह इस योजना का लाभ ले सके यह सभी जानकारी किस प्रकार की होने वाली है इसकी स्टेप बाय स्टेप जानकारी हम आपको यहां देने जा रहे हैं.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को देश के किसानों के लिए विकसित किया गया है
इस स्कीम के तहत देश के उन सभी किसानों को इसका लाभ प्राप्त कराया जाएगा जिनका फसल किसी प्राकृतिक आपदा के कारण नष्ट हो जाते हैं
इस स्कीम का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को सबसे पहले अपना फसल का बीमा का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा
विशेष टीम के माध्यम से किसानों द्वारा लगभग 13000 करोड रुपए का प्रीमियम जमा किया गया है
जिसके बदले उन सभी किसानों को 60000 करोड रुपए तक का इंसुरेंस क्लेम प्राप्त हुआ है
सरकार के द्वारा जो भी किसान इसके लिए पात्र है इस योजना का लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जाता है जिसके लिए सरकार द्वारा प्रचार भी किया जाता है.
इस योजना को 27 राज्य एवं केंद्र प्रशासित देशों में संचालित किया जाता है
योजना के अंतर्गत क्लेम रेशों 88.3 प्रतिशत है
सरकार द्वारा समय-समय पर इस योजना की समीक्षा की जाती है एवं सभी हितग्राही को से संवाद किया जाता है
इस योजना में फरवरी में कुछ संशोधन भी किए गए हैं। जिससे कि सभी किसानों को और बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा सके।
संशोधित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अनुसार वह राज्य जिनमें स्टेट सब्सिडी की पेमेंट लंबे समय तक विलंब है वह इस योजना में भाग नहीं ले पाएंगे।
बीमा कंपनी द्वारा 0.5% प्राप्त हुई प्रीमियम की राशि इंफॉर्मेशन, एजुकेशन एंड कम्युनिकेशन एक्टिविटी के लिए खर्च की जाती है।
इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए एक सेंट्रल एडवाइजरी कमेटी का भी गठन किया गया है।
Pradhanmantri Fasal Bima Yojana को आधार एक्ट 2016 के अंतर्गत संचालित किया जाता है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी के पास आधार नंबर होना अनिवार्य है।
इस योजना को संचालित करने का मुख्य उद्देश्य सभी किसानों को खेती करने के लिए बिना किसी आपदा की चिंता किए प्रोत्साहित करना है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना दिसंबर अपडेट!

फसल बीमा योजना के तहत प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान पर इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाता है सरकार की ओर से इस योजना के माध्यम से अब सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत वाइल्ड लाइफ डैमेज को कवर करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है अब प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत है यदि फसल को जंगली जानवर के कारण नुकसान पहुंचाता है तो किसान को फसल पर हुए नुकसान पर कवर प्रदान किया जाएगा इस सुविधा एक ऐडऑन कवरेज के तौर पर कार्य करेगी.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत यदि किसान वन्य जीवन बीमा लेना चाहते हैं तो किसानों को इसके प्रीमियम का भुगतान करना होगा। हालांकि, राज्य सरकार इस समावेशन पर और अधिक विनियोग देने पर विचार कर रही है।
बीमा एजेंसी और एमओईएफसीसी के साथ सार्वजनिक प्राधिकरण की बैठक में प्रस्तावों के मूल्यांकन के लिए एक निश्चित सम्मेलन और तकनीक को आकर्षित किया गया है।
जंगल के अधिकारियों द्वारा यह भी बताया गया है कि राज्य उस समय किसानों को उपज क्षति भुगतान दे रहा था। वर्तमान में विभिन्न राज्यों से प्राप्त सुझावों के अनुसार वन्य जीवों से होने वाले नुकसान को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नियमों में भी शामिल किया गया है। यह कदम महाराष्ट्र में फसल क्षति को रोकने के लिए गठित बोर्ड द्वारा भी निर्धारित किया गया है।

प्रधानमंत्री फसल योजना बीमा की विशेषताएं!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की विशेषताएं किस प्रकार है जिसकी जानकारी हम आपको अपने इस पोस्ट के माध्यम से देने जा रहे हैं इसकी विशेषताएं कुछ इस प्रकार की है यह निम्नलिखित है.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से प्राकृतिक आपदा के कारण अगर किसी किसान का फसल बर्बाद हो जाता है तो आपको उसका मुआवजा भी मिलता है.

इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में स्थिरता आती है एवं उन्हें नवीन प्रथाओं को अपनाने में प्रोत्साहन प्राप्त होता है

फसलों के अनुसूचित बीमा इकाई को कम कर दिया गया है

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को प्रीमियम रेट पर संचालित किया जाएगा

किसान द्वारा दे प्रीमियम एवं बीमा शुल्क की दर के बीच का अंतर सनसिटी के रूप में प्रदान किया जाएगा

सरकार द्वारा सभी हिट धारकों के बीच योजना के बारे में जागरूकता प्रदान की जा रही है

सरकार द्वारा यह निरंतर प्रयास किया जा रहा है कि सभी किसानों को इसके बारे में जानकारी और वह भी अपना फसल का बीमा करा सके

इस योजना के माध्यम से दावे की राशि सीधे किसान के खाते में जमा की जाएगी

क्लेम को शीघ्र निपटाने के लिए फसल के नुकसान का आकलन करने के लिए रिमोट सेटिंग तकनीक स्मार्टफोन और ड्रोन का उपयोग किया जाएगा

शेष क्लेम की राशि फसल कटाई प्रयोग के आंकड़ों के माध्यम से प्रदान की जाएगी

इस योजना के अंतर्गत रोकी गई बुवाई के लिए बीमित राशि के 25% तक के दावे का प्रावधान है

बीमा इकाई में फसल की खेती 50% से अधिक बताई जाती है तो मत देख मौसम प्रतिकूलता के लिए बीमा राशि का 25% तक ऑन है अकाउंट भुगतान किया जाएगा.

इस योजना के अंतर्गत आने वाली पात्रता?

अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको इन सभी शर्तें तथा मानदंडों को पूरा करते हुए इस योजना के लिए पात्र बनना होगा.

देश का उन किसानों का इस योजना के लिए पात्र माना जाएगा जो पहले किसी बीमा योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर रहे थे.

इस योजना के तहत देश के सभी किसान इसके लिए पात्र माने जाएंगे.

इस योजना के तहत आप अपनी जमीन पर की गई खेती का बीमा करवा सकते हैं साथ ही आप किसी उधार की पर ली गई जमीन पर की गई खेती का भी बीमा करवा सकते हैं.

इस योजना के अंतर्गत आने वाली दस्तावेज!

इस योजना के अंतर्गत आने वाली दस्तावेज कुछ इस प्रकार की होने वाली है यह निम्नलिखित है

आवेदक का आधार कार्ड
आवेदक का जाति प्रमाण पत्र
आवेदक का आय प्रमाण पत्र
आवेदक का बैंक खाता
आवेदक का किसान क्रेडिट कार्ड
आवेदक का पासपोर्ट साइज फोटो
किसान द्वारा फसल की बुवाई शुरू हुए दिन की तारीख
खेत का खाता नंबर या खसरा नंबर

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन!

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए करने ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले इसकी ऑफिसर विषय पर जाना होगा
अब आपके सामने एक होम पेज ओपन होगा

अकाउंट बनाने के लिए रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना होगा और यहां पर पूछी गई सभी जानकारी को सही सही भरना होगा.
सबमिट बटन पर क्लिक कर दे और उसके बाद आपका अकाउंट ऑफिशियल वेबसाइट बन जाएगा.

अकाउंट बनाने के बाद अपने अकाउंट में लॉगिन करके आपको फसल बीमा योजना के लिए फॉर्म भरना होगा

फसल बीमा योजना का फॉर्म सही-सही भरने के बाद आपको सबमिट का एक विकल्प दिखेगा इस विकल्प पर क्लिक करें.

इस प्रकार आपका आवेदन सफलतापूर्वक हो जाएगा

कैसे करें ऑफलाइन आवेदन!

अगर आप प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत डिस्कनेक्टेड आवेदन करना चाहते हैं तो आपको सामान्य प्रक्रिया का पालन करना होगा।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अपनी नजदीकी बीमा एजेंसी के पास जाना होगा।
वर्तमान में आपको कृषि विभाग से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
इसके बाद आपको एप्लीकेशन स्ट्रक्चर में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करनी होगी।
अब आपको आवेदन संरचना के साथ सभी महत्वपूर्ण रिपोर्टों को संलग्न करने की आवश्यकता है।
इसके बाद आप इस आवेदन को कृषि व्यवसाय प्रभाग के समक्ष प्रस्तुत करें।
वर्तमान में आपको उच्चतम राशि का भुगतान करने की आवश्यकता है।
इसके बाद आपको एक रेफरेंस नंबर दिया जाएगा।
आपको इस संदर्भ संख्या को उपयोगी रखना चाहिए।
इस नंबर के माध्यम से आप वास्तव में अपने आवेदन की स्थिति देख सकते हैं।

मित्रों जैसा कि हमने आपको यहां बताया है कि आप ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं कैसे अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आप लोगों को पसंद आया हो तो हमारे इस पेज को अपने उन सभी मित्रों के साथ शेयर अवश्य करें जो लोग अभी तक इस योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर सके ताकि कोई भी किसान इस लाभ से वंचित ना रहे.

बैंक के माध्यम से,

आप लोग किस प्रकार इस योजना का लाभ बैंक के जरिए भी प्राप्त कर सकते हैं, और बैंक के तरफ से भी इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन कैसे कर सकते हैं इसकी जानकारी आप हमारी इस पोस्ट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं

सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी बैंक जाना होगा।
अब आपको संबंधित अधिकारी को अपना एप्लीकेशन नंबर देना होगा।
इसके पश्चात आपको बैंक अधिकारी द्वारा मांगे गए दस्तावेजों को देना होगा।
बैंक अधिकारी आपको लाभार्थी सूची से संबंधित जानकारी प्रदान कर देगा।
इस प्रकार आप लाभार्थी सूची में अपना नाम देख पाएंगे।

नोटिस!

अगर आप लोग बिहार बोर्ड से जुड़ी सभी खबरों की जानकारी सबसे पहले प्राप्त करना चाहते हैं जैसे कि सरकारी रिजल्ट, स्कॉलरशिप, रजिस्ट्रेशन कार्ड एडमिट कार्ड, डमी कार्ड तथा केंद्र सरकार की ओर से चलाई जाने वाली सभी योजनाओं का जानकारी सबसे पहले प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को फॉलो अवश्य करें.

सारांश!

अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आप लोगों को पसंद आया हो तो हमारे इस पेज को अपने सभी मित्रों के साथ शेयर अवश्य करें और ऐसे ही खबरों को जानने के लिए हमारे साथ इस आर्टिकल से जुड़े रहे ताकि आपके काम की कोई भी खबर आप से ना छूटे चाहे वह रोजगार से जुड़ी खबर या किसी अन्य योजना से हम सभी खबरों का अपडेट अब तक लाएंगे.

इसको लेकर आपके मन में किसी भी प्रकार का डाउट हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में अपनी राय कमेंट अवश्य करें ताकि हम भी आपकी समस्याओं को जान सके धन्यवाद.

FAQ’S? प्रधानमंत्री फसल बीमायोजना 2022!

Amar Kumar is a graduate of Journalism, Psychology, and English. Passionate about communication - with words spoken and unspoken, written and unwritten - he looks forward to learning and growing at every opportunity. Pursuing a Post-graduate Diploma in Translation Studies, he aims to do his part in saving the 'lost…

This is a new paragraph added to the author box.

Leave a Comment